शनिवार, 27 सितंबर 2014

हमसफ़र चाहता हूँ

हमसफ़र चाहता हूँ,
बस इक तेरी नज़र चाहता हूँ।
जिन्दगी कुछ यूँ हो मेरी,
बस इक घर चाहता हूँ॥
हमसफ़र चाहता हूँ॥

कदम दो कदम जो चलना जिन्दगी में
कदमों पे तेरे, कदम चाहता हूँ।
लबों पे खुशी हो तेरे सदा
ऐसी कोई कसम चाहता हूँ।
हमसफ़र चाहता हूँ॥

राह--जिन्दगी होगी हसीन
ग़र संग हम दोनों चलें
फूलों में देखो, हैं रंग कितने
उन्हीं में जीवन बसर चाहता हूँ।
हमसफ़र चाहता हूँ॥

29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (28-09-2014) को "कुछ बोलती तस्वीरें" (चर्चा मंच 1750) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    शारदेय नवरात्रों की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद मोनिका जी। अगर कुछ सुधार की गुंजाइश हो तो कृपया बताएँ।

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद कालीपद जी। आपको भी नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ।

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद जोशी जी कि आपने अपना समय मुझे भी दिया। अगर कोई त्रुटि हो तो जरूर बताएं।

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद शर्मा जी कि आपने अपना कुछ समय मुझे भी दिया।

      हटाएं
  7. वाह ! कितनी सुन्दर पंक्तियाँ हैं ... मन मोह लिया इस चित्र ने तो !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको हार्दिक धन्यवाद भास्कर जी।

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद जेन्नी जी।

      हटाएं
  9. हृदय में उठती कामना की सहज-सलोनी लहर जैसे कविता में रूपायित हो जाए !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप जो कह रही हैं मैंने कोशिश तो वैसे ही किया है परन्तु मैं उस पर कितना खरा उतरा आप जैसे सुधीजन ही बता सकती हैं। बहुत बहुत धन्यवाद की आपने समय निकाल कर प्रोत्साहित किया।

      हटाएं