रविवार, 6 मार्च 2016

आईना मगर सब कहता है - राजीव उपाध्याय

कर जो-जो तू चाहता है
कि मुक्कमल जहाँ में तू रहता है।

हसरतें तेरी आसमानी हैं
कि सब कुछ तू, तू ही चाहता है।

जमीं आसमां एक करता है
आसमां मगर जमीं पर ही रहता है।

कोई सवाल नहीं है तुझसे
मगर सवाल तो बनता है।

अब तू जवाब दे ना दे
आईना मगर सब कहता है।
----------------------------

राजीव उपाध्याय

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर और बेहतरीन प्रस्तुति, महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद कुमार साहब। आपको भी महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामना।

      हटाएं