बुधवार, 8 अक्तूबर 2014

सपनों में रिश्ते बुनते देखा

सपनों में रिश्ते बुनते देखा
जब आँख खुली तो
कुछ ना था;
आँखों को हाथों से
मलकर देखा
कुछ ना दिखा;
ख़्वाब था शायद ख़्वाब ही होगा।
सपनों में रिश्ते बुनते देखा॥

जब ना यकीं
हुआ आँखों को
धाव कुरेदा
ख़ूँ बहा कर देखा;
बहते ख़ूँ से
दिल पर
मरहम लगा कर देखा;
धाव था शायद धाव ही होगा।

12 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut sunder prastuti ... Har sapne ki yahi kahani toota jab bhi de gya aankh me paani !!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपसे सहमत हूँ। बहुत-बहुत धन्यवाद परी जी।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद जोशी जी।

      हटाएं
  3. बहुत ज्यादा पसंद आई...बहुत ही खुबसूरत रचना रची है आपने..बधाई स्वीकारें.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए आपको सादर धन्यवाद मित्र। मेरे लिए खुशी की बात है कि कविता आपको पसंद आई।

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद विम्मी जी।

      हटाएं