बुधवार, 17 दिसंबर 2014

धर्म का खेला

कुछ लोग बड़े ही चिन्तित हैं कि भारत में इस्लाम और ईसायत पर हमला हो रहा है क्योंकि कुछ हिन्दूवादी संगठनों ने कुछ मुस्लमानों को तथाकथित रूप से हिन्दू बनाया था आगरा में और अलीगढ़ में तैयारी है कुछ और मुस्लमानों और ईसाइयों को हिन्दू बनाने की। तो कुछ लोग खुश हैं कि चलो कालचक्र का पहिया घूमना शुरू तो हुआ। माफी चाहूंगा पर आप दोनों ही गलत हैं। थोड़ा नहीं बहुत गलत हैं और आप लोगों के इस सोच या कर्म से ना तो राम खुश हो सकते हैं ना ही अल्लाह या ना ही गाड। आप सभी महाविद्वानों से नम्र निवेदन है (शायद आपके के अनुसार मैं इस काबिल नहीं हूँ) आप अपने-अपने धर्मों में पाए जाने वाली विसंगतियों एवं कुप्रथाओं की ओर ध्यान दें नहीं तो आप महाविद्वान लोग अपने-अपने धर्मों नारकीय बना देगें (खैर आपने बहुत हद तक बना दिया है धर्म और मानवता दोनों को) और लोग आपको धन्यवाद बोलकर नया रास्ता ले लेंगे पर तब आपकी बन्दूकें और धन सब धरी की धरी रह जाएंगी।

पता नहीं कौन सा जिहाद ये कि बच्चे छोटे भी काफ़िर हो गए।

माफ करना बच्चों तुम्हारे पिता और दादा कुछ ज्यादे ही सयाने हो गये हैं कि बन्दूक थामकर मजहब बचाने चले हैं………….।

© राजीव उपाध्याय

14 टिप्‍पणियां:

  1. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर ( संकलक ) ब्लॉग - चिठ्ठा के "साहित्यिक चिट्ठे" कॉलम में शामिल किया गया है। कृपया हमारा मान बढ़ाने के लिए एक बार अवश्य पधारें। सादर …. अभिनन्दन।।

    कृपया ब्लॉग - चिठ्ठा के लोगो अपने ब्लॉग या चिट्ठे पर लगाएँ। सादर।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 18-12-2014 को चर्चा मंच पर क्रूरता का चरम {चर्चा - 1831 } में दिया गया है
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. संवेदनशीलता अपने चरम में है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्या कोई बता सकता है ऐसे दरिंदों का मज़हब ...जिन्होंने मजहब के नाम पर मासूमों की बलि दे डाली… संवेदनशील। ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इनके मजहब का तो नहीं मालूम परन्तु ये सब मजहब के नाम पर ही हो रहा है और इसी का तो अफसोस है इन्होंने मजहब को ढाल बना रखा है। पर शायद ये वक्त आ गया है कि इनके हममजहब आगे आकर इनकी कारस्तानियों की सजा दें।

      हटाएं
  5. शर्मनाक...हम सब हतप्रभ और आहत हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी सही कह रही हैं आप पर इन वहशियों को शायद ही फर्क पड़ा हो।

      हटाएं
  6. क्रूरता की इन्तेहा है. पूरी दुनिया स्तब्ध है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी शबनम जी। पता नहीं कहाँ से इतनी क्रूरता ये लोग ले कर आते हैं अपने हृदय में।

      हटाएं
  7. संवेदनशील... नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ, सादर।

    उत्तर देंहटाएं