बुधवार, 17 जून 2015

जिन्दगी

अटूट बंधन के मई अंक में प्रकाशित कविता। धन्यवाद  वंदना वाजपेयी जी

आदमी
चुपचाप रहे
या बातें करे बहुत
जिन्दगी
बेपरवाह
चलती रहती है।

तरतीब भी वही
तरकीब भी वही
जिन्दगी खामोश
उसी पुराने धर्रे से
पिघलती रहती है।

बस
आँख नई होती है
जो सब कुछ
नया गढ़ती है।

© राजीव उपाध्याय

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 18 - 06 - 2015 को चर्चा मंच पर नंगी क्या नहाएगी और क्या निचोड़ेगी { चर्चा - 2010 } पर दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा में शामिल करने के लिए सादर धन्यवाद

      हटाएं
  2. बि‍ल्‍कुल सही, देखने का नजरि‍या अलग होता है...सुंदर लि‍खा

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद रश्मि जी। रचना की स्वीकार्यता संबल प्रदान करती है कि जो कर हैं सही है।

      हटाएं
  3. सुन्दर ,बहुत कुछ सोचने पर मजबूर करते हुए , बेहतरीन अभिब्यक्ति , मन को छूने बाली पँक्तियाँ

    कभी इधर भी पधारें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद आपको मदन जी। ये मेरे लिए खुशी की बात है कि कविता आपको अच्छी लगी। सादर धन्यवाद

      हटाएं
  4. जिन्दगी का ढर्रा वही रहता है .
    फर्क बस नजर का!

    उत्तर देंहटाएं