गुरुवार, 28 जनवरी 2016

वो जगह - राजीव उपाध्याय


ढूँढ रहा हूँ जाने कब से
धुँध में प्रकाश में
कि सिरा कोई थाम लूँ
जो लेकर मुझे उस ओर चले
जाकर जिधर
संशय सारे मिट जाते हैं
और उत्तर हर सवाल का
सांसों में बस जाते हैं।

पर जगह कहां वो
ये सवाल ही
अभी उठा नहीं
की आदमी अब तक अभी
खुद से ही मिला नहीं।
---------------------
राजीव उपाध्याय

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (29.01.2016) को "धूप अब खिलने लगी है" (चर्चा अंक-2236)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा में शामिल करने लिए आपको हार्दिक धन्यवाद राजेन्द्र जी। आभार!

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना, "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 29 जनवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्छी रचना राजीव जी.

    Anil Sahu

    जवाब देंहटाएं