सोमवार, 8 अप्रैल 2019

दुनिया झल्ला उठती है मुझ पर - विपिन कुमार शर्मा

दम साधे दबे पाँव
तीसरे पहर रात का सिराता अन्धेरा
और सन्नाटा
सन्नाटे और अन्धेरे को थाह-थाह
दबे पाँव चलता हूँ मैं
सोयी हैं बेसुध... पत्नी और बेटियाँ 
जैसे सो रहीं धरती और नदियाँ... 

धीरे-से टटोलता हूँ घड़ा
और गिर पड़ता है झन्न से ग्लास 
घबरा कर जागती है धरती
और नदियाँ 
बारी-बारी से कोसकर सब सो जाती हैं। 

इसी तरह, ठीक 
दम साधे दबे पाँव, मैं 
गुज़र जाना चाहता हूँ इस दुनिया से
लेकिन हो ही जाती है
कोई न कोई आहट
और यह दुनिया
झल्ला उठती है मुझ पर
---------------------------
विपिन कुमार शर्मा

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (10-04-2019) को "यन्त्र-तन्त्र का मन्त्र" (चर्चा अंक-3301) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खूब लिखा है आपने!!!
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !

    जवाब देंहटाएं