मंगलवार, 4 जून 2019

कितने पथिक - राजीव उपाध्याय

मैं पथ बन
हर पल खड़ा हूँ
कितने पथिक
आए-चले गए।

कुछ देर तक ठहरे
कुछ गहरे कहीं तक उतरे
और पल में कुछ
कहानी नई कर गुजरे।
कितने पथिक
आए-चले गए॥

ठंडक सुबह की कभी
तो उमस शाम की भी
कुछ चाँदनी रातें
तो भयानक दोपहर भी
उदासियाँ और उबासियां
बदल-बदल कर लिबास अपना
वक्त संग खेलते गए
वक्त में पिघलते गए।
कितने पथिक
आए-चले गए॥


पर आज भी मैं
धूल की चादर चेहरे पर लगाए
बीच राह आकर खड़ा हूँ
और हूँ सहेजता
कि कहानी कोई
मूँडेर से बिखर ना जाए।
कितने पथिक
आए-चले गए॥
----------------------------------------
राजीव उपाध्याय

11 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (05-06-2019) को "बोलता है जीवन" (चर्चा अंक- 3357) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सभी मौमिन भाइयों को ईदुलफित्र की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया कविता। मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    उत्तर देंहटाएं