गुरुवार, 25 जुलाई 2019

बस पढनेवाला नहीं कोई - राजीव उपाध्याय

मेरे घर का मेरा वो कोना
जो अब तुम्हारा हो चुका है
मुझमें तेरे होने की 
वही कहानी कहता है
जो कभी माँ
पिताजी के साथ सुनती थी
और ईया बाबा को बताती थीं। 

कुछ भी नया नहीं है;
ना झगड़ा
ना ही बातें प्यार की। 

पीढ़ियों से हम वही बातें कहते आ रहे हैं
सफर 
वही चलता जा रहा है
और लोग भी वही हैं
बस चेहरे बदलकर
कुछ की गुंजाइश ढूँढते हैं
जो आनेवाले कल की
इबारत उसी दीवार पर लिखते हैं।
शब्द भी एक ही हैं
बस पढनेवाला नहीं कोई।
-------------------------
राजीव उपाध्याय

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें