सोमवार, 26 अगस्त 2019

रूबरू - सुदर्शन शर्मा

चाँद से मेरी कभी अब गुफ़्तगू होती नहीं।
रोज़ आता है मगर मैं रूबरू होती नहीं॥

कभी पूरा, तो कभी आधा आधा मिलता है
सहन मुझसे ये अधूरी आरज़ू होती नहीं॥

तेरे कहने से दफ़्न कर देती जो यादें तेरी
रौशनी ये आज मेरे हर एक सू होती नहीं॥

जफा के ज़िक्र पे फिसला लबों से तेरा नाम
फैली ये बात वरना कू बा कू होती नहीं॥

ख्वाब चुभ जाएँ बन केखार दिल के तलवो में
ख़त्म फिर भी सफर की जुस्तजू होती नहीं॥
---------------------
सुदर्शन शर्मा

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (27-08-2019) को "मिशन मंगल" (चर्चा अंक- 3440) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में मंगलवार 27 अगस्त 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह ... लाजवाब शेर हैं सभी ... अच्छी ग़ज़ल ...

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह बेहतरीन रचनाओं का संगम।एक से बढ़कर एक प्रस्तुति।
    BhojpuriSong.in

    जवाब देंहटाएं