गुरुवार, 1 अगस्त 2019

सबसे ख़तरनाक - अवतार सिंह 'पाश'

मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती
पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती
ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती
बैठे-बिठाए पकड़े जाना बुरा तो है
सहमी-सी चुप में जकड़े जाना बुरा तो है
सबसे ख़तरनाक नहीं होता
कपट के शोर में सही होते हुए भी दब जाना बुरा तो है
जुगनुओं की लौ में पढ़ना
मुट्ठियां भींचकर बस वक्‍़त निकाल लेना बुरा तो है
सबसे ख़तरनाक नहीं होता।

सबसे ख़तरनाक होता है मुर्दा शांति से भर जाना
तड़प का न होना
सब कुछ सहन कर जाना
घर से निकलना काम पर
और काम से लौटकर घर आना
सबसे ख़तरनाक होता है
हमारे सपनों का मर जाना
सबसे ख़तरनाक वो घड़ी होती है
आपकी कलाई पर चलती हुई भी जो
आपकी नज़र में रुकी होती है।

सबसे ख़तरनाक वो आंख होती है
जिसकी नज़र दुनिया को मोहब्‍बत से चूमना भूल जाती है
और जो एक घटिया दोहराव के क्रम में खो जाती है
सबसे ख़तरनाक वो गीत होता है
जो मरसिए की तरह पढ़ा जाता है
आतंकित लोगों के दरवाज़ों पर
गुंडों की तरह अकड़ता है
सबसे ख़तरनाक वो चांद होता है
जो हर हत्‍याकांड के बाद
वीरान हुए आंगन में चढ़ता है
लेकिन आपकी आंखों में
मिर्चों की तरह नहीं पड़ता।

सबसे ख़तरनाक वो दिशा होती है
जिसमें आत्‍मा का सूरज डूब जाए
और जिसकी मुर्दा धूप का कोई टुकड़ा
आपके जिस्‍म के पूरब में चुभ जाए।

मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होती
पुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होती
ग़द्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे ख़तरनाक नहीं होती।
--------------------------
सबसे ख़तरनाक - अवतार सिंह 'पाश' awatar singh pashअवतार सिंह 'पाश'

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (02-08-2019) को http://charchamanch.blogspot.in/"> "लेखक धनपत राय" (चर्चा अंक- 3415)

    पर भी होगी।

    --

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।

    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।

    --

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ

    सादर...!

    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं

  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २ अगस्त २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर और भावुक रचना। मेरे ब्लॉग पर भी आइये।
    iwillrocknow.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. व्वाहहहह..
    गम्भीर चिंतन..
    साधुवाद..
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सार्थक अभिव्यक्ति यथार्थ पर चिंतन देती ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. खतरनाक को बड़े ही खतरनाक ढंग से परिभाषित किया है...मुर्दा धूप का टुकड़ा...पूरब में चुभ जाना...सपनों का मर जाना...👌👌👌

    उत्तर देंहटाएं