शुक्रवार, 6 सितंबर 2019

मैं और तू - अहमद फ़राज़

रोज़ जब धूप पहाड़ों से उतरने लगती
कोई घटता हुआ बढ़ता हुआ बेकल साया
एक दीवार से कहता कि मेरे साथ चलो।

और ज़ंजीरे-रफ़ाक़त से गुरेज़ाँ दीवार
अपने पिंदार के नश्शे में सदा ऐस्तादा
ख़्वाहिशे-हमदमे-देरीना प’ हँस देती थी।

कौन दीवार किसी साए के हमराह चली
कौन दीवार हमेशा मगर ऐस्त्तादा रही
वक़्त दीवार का साथी है न साए का रफ़ीक़।

और अब संगो-गुलो-ख़िश्त के मल्बे के तले
उसी दीवार का पिंदार है रेज़ा -रेज़ा
धूप निकली है मगर जाने कहाँ है साया।
----------------------------
अहमद फ़राज़
अहमद फ़राज़

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें