गुरुवार, 9 जनवरी 2020

घोडरोज - सदानन्द साही

ये घोडरोज हैं।

कभी हिरन का भ्रम पैदा करते हैं
कभी घोड़े का
कभी गाय का
इसीलिए इन्हें नीलगाय कहा जाता है।

जब लोग इनकी भोली सूरत पर रीझ कर
गऊ समझ बैठते हैं
तभी ये घुस जाते हैं खेतों में
चट कर जाते हैं पूरी की पूरी फसल
तबाह कर देते हैं
मानव श्रम और प्रतिभा की उपज।

नीलगाय नाम के ओट में
इन्हें गाय समझ लेना 
आत्मघाती है।

इन्हें पहचान लीजिए
ये घोडरोज हैं
खेत तबाह करने आये हैं।
-------------------
सदानन्द साही
सदानन्द साही

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें