गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

शहर - अमृता प्रीतम

मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है
सड़कें - बेतुकी दलीलों-सी…
और गलियाँ इस तरह
जैसे एक बात को कोई इधर घसीटता
कोई उधर

हर मकान एक मुट्ठी-सा भिंचा हुआ
दीवारें-किचकिचाती सी
और नालियाँ, ज्यों मुँह से झाग बहता है


यह बहस जाने सूरज से शुरू हुई थी
जो उसे देख कर यह और गरमाती
और हर द्वार के मुँह से
फिर साईकिलों और स्कूटरों के पहिये
गालियों की तरह निकलते
और घंटियाँ-हार्न एक दूसरे पर झपटते

जो भी बच्चा इस शहर में जनमता
पूछता कि किस बात पर यह बहस हो रही?
फिर उसका प्रश्न ही एक बहस बनता
बहस से निकलता, बहस में मिलता…

शंख घंटों के साँस सूखते
रात आती, फिर टपकती और चली जाती

पर नींद में भी बहस ख़तम न होती
मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है…
---------------------
अमृता प्रीतम


1 टिप्पणी:

  1. After rising up figuring out he needed to change the world, Drew Turney realized it was Toilet Plungers for High Pressure simpler to put in writing about different folks altering it instead. The first patent for a course of called a Liquid Metal Recorder dates to the Seventies, however the idea is way older. In 1945, a prescient short story by Murray Leinster called “Things Pass By” describes the method of feeding “magnetronic plastics—the stuff they make houses and ships of nowadays—into this moving arm. It makes drawings in the air following drawings it scans with photo-cells. But plastic comes out of the end of the drawing arm and hardens because it comes.” What in Leinster’s day was science fiction quickly turned a reality. But though big companies could account for essentially the most patents, small companies are also playing in} a role in the ecosystem — 12% of patent purposes are coming from companies with lower than 15 employees.

    जवाब देंहटाएं